उत्तर प्रदेशमेडिकल

प्रदेश सरकार ने लगाई सरकारी अस्पतालों में दवाई सप्लाई पर रोक

उत्तर प्रदेश कि राजधानी लखनऊ में और देशभर के सारी सरकारी अस्पतालों में सप्लाई होने वाली दवाओं का नमूना लगातार फैल हो रहा है। आई ड्रॉप से लेकर एलर्जी की दवाएं गुरुवार से अस्पतालों में वितरण पर रोक लगा दी गई है। उसके बाद शुक्रवार को एक नया आदेश जारी किया जिसमें मलेरिया की दवा पर भी प्रतिबंधित लगा दी गई है।

सरकारी अस्पतालों में विभिन्न कंपनियों से सप्लाई होने वाले दवाओं के नमूने ड्रग सप्लाई कॉर्पोरेशन की जांच में फेल हो रहे हैं। सरकारी अस्पतालों में विभिन्न कंपनियों से सप्लाई होने वाले दवाओं के नमूने ड्रग सप्लाई कॉर्पोरेशन की जांच में फेल हो रहे हैं। कारपोरेशन में इंदौर की मैसर्स मॉडल लैबोरेट्री द्वारा अस्पतालों में सप्लाई की गई टेबलेट क्लोरोक्वीन फास्फेट 250 एमजी बैच नंबर सीईटी 1913 सीईटी 1915 के नमूने जांच के लिए भेजे थे। इसमें नमूने फेल होने पर दवा के वितरण पर रोक लगा दी हैं। कारपोरेशन के एमडी श्रुति सिंह के अनुसार नमूने आधीमानक मिलने के कारण आपूर्ति पर रोक के साथ ही दवा वापस मांगने की आदेश दिए गए हैं इन्हीं मुद्दों को लेकर हमारे संवाददाता राजन सिंह हजरतगंज के सिविल अस्पताल पहुंचे जहां पर दवाइयों की रखरखाव और अधीक्षक आशुतोष टंडन से बातचीत किया। जिनसे मामला पूरा सामने आया और उन्होंने बताया कि यह लगातार शोध के लिए दवाएं जा रहे थे,और फेल होते हुए नजर आए जिसके बाद से इनकी सप्लाई बंद कर दी गई। लेकिन सरकारी अस्पतालों में इसके जगह पर दूसरी दवाई मरीजों को दी जाएगी । इसकी व्यवस्था भी मजबूती से की जाएगी मरीजों को किसी भी प्रकार का तकलीफ ना हो यह पूरा ध्यान रखा जाएगा

Tags
Show More

Related Articles

Close
Close