Alive24News.com

Uttar Pradesh Lucknow's Latest News in Hindi (हिंदी)

श्रीमान योगीजी, बात भव्य राम मंदीर बनाने की हुई है न की राम प्रतिमा की..!


जब 6 दिसम्बर १९९२ को अयोध्या में बाबरी का ढांचा ढहा गया तब ऐसा लगा था समस्त हिन्दू समाज को की बस अब रामजी का भव्य मंदिर वही बनना जल्द से जल्द शुरू हो जायेंगा। लेकिन आँखे तरस गई राम भक्तो की और बिना मंदिर के बाहर बैठे राम लल्ला की मंदिर निर्माण की तारीख देखते देखते।

मंदिर कब बनेगा ये संघ और भाजपा के अलावा और कोई नहीं जानता। ये चाहे तो तत्काल मंदिर का काम शुरू हो सकता है। इसी बीच उत्तरप्रदेश के भाजपाई मुख्यमंत्री योगीजी ने गुजरात में लौह पुरुष सरदार पटेल की दुनिया की सबसे ज्यादा ऊँची प्रतिमा देख रामजी की भी ऐसी ही ऊँची प्रतिमा अयोध्या में सरयू के किनारे लगाने की घोषणा की। उन्होंने 151 मीटर ऊँची प्रतिमा बनाने की बात कही। जब की लौह पुरुष कि प्रतिमा 182 मीटर ऊँची है। अब कौन बड़ा भगवान् श्री रामजी या लौह पुरुष सरदारजी ये तय करना है जो खुद एक मंदिर के पुजारी और गादीपति है वह योगीजी को।

१९९० के अरसे में मंदिर के लिए शीला पूजन और दान लिया गया था लोगो से। कितनी ईंटे अयोध्या पहुँची और जो अबजो रूपये दान में आये उसका क्या हुवा ये तो वीएचपी के नेतागण जानते ही होंगे। उसका हिसाब किताब राम भक्तो देना या न देना ये नेतागण तय करे। साहेबान, बात हुई थी ढांचे की जगह पर भव्य राम मंदिर निर्माण की। उस पर बरसोंसे राजनीति हो रही है। मामला कोर्ट के आधीन होने के बावजूद मंदिर बनाने की घोषनाए होती है लेकिन मंदिर निर्माण की पहली ईंट अभी तक नहीं लगाईं गई। पांच राज्यों में चुनाव होने को जा रहे है और इस बीच सुप्रीम कोर्टने सुनवाई जनवरी में जारी की तब उसका कड़ा विरोध किया गया। संतो को आगे कर मंदिर निर्माण का शंखनाद किया गया लेकिन मंदिर का सीलान्यास अभी तक नहीं हुवा।

भाजपा के साथी दल शिवसेना कबसे मांग कर रहा है की मंदिर की तारीख तो बताइये…..उद्धव ठाकरेजी नी भाजपा पर तंज कसते हुए कहा की मंदिर वही बनायेंगे लेकिन तारीख नहीं बताएँगे….ठाकरेजी की तरह लाखो करोडो राम भक्तो की मांग है की केंद्र में भाजपा की पूर्ण बहुमतवाली सरकार है, किसी साथी दल का प्रतिरोध नहीं फिर भी मंदिर निर्माण की शुरुआत अब तक क्यों नहीं हो रही…?

सरकार को पांच साल होने को आये है। फिर से इतनी बहुमतवाली सरकार बनेंगी ये कोई राजनितिक पंडित सीना ठोक कर कहने को तैयार नहीं। अब नहीं तो फिर कभी नहीं…..ऐसा मान कर रामजी की 151 मीटर ऊँची प्रतिमा बनानाने की बजाय राम जन्म भूमि पर जल्द से जल्द भगवान श्री रामजी का सबसे बड़ा, अति सुन्दर, अति भव्यता वाला मंदिर निर्माण का काम शुरू हो। शुभ कार्य में देर किस बात की। आखिर लोगो की आस्था और श्रद्धा का विषय है की जहाँ पैदा हुए श्रीराम उसी अयोध्या में उसी जगह बने राम मंदिर…प्रतिमा उसके भीतर स्थापित हो जायेंगी। लौह पुरुष से कम ऊंचाई की रामजी की प्रतिमा बनाकर रामजी का और लौह पुरुष का दोनों का कोई अवमान न करे। भगवान् श्री रामजी बड़े है न की लौह पुरुष इतना तो मंदिर के पुजारी के नाते योगीजी जानते ही होंगे। जय श्री राम…!