उत्तर प्रदेशबड़ी खबरब्रेकिंग

उत्तर प्रदेश के महराजगंज में बनेगा पहला गिद्ध संरक्षण केंद्र

उत्तर प्रदेश सरकार ने लुप्त हो रहे गिद्धों के संरक्षण और उनकी आबादी बढ़ाने के लिए महराजगंज में ‘जटायु संरक्षण और प्रजनन केंद्र’ 5 हेक्टेयर क्षेत्रफल में स्थापित करने का फैसला किया है। संरक्षण व प्रजनन केंद्र से संबंधित सर्वेक्षण का 60 फीसदी काम पूरा हो चुका है।

प्रधान मुख्य वन संरक्षक सुनील पांडेय के अनुसार यह केंद्र हरियाणा के पिंजौर में बना ‘ देश के पहले जटायु संरक्षण और प्रजनन केंद्र ‘ की तर्ज पर देख रेख किया जाएगा। इसके लिए महराजगंज की तहसील फरेंदा के गांव भारी-वैसी का चुनाव किया गया है। इसकी स्थापना ‘ वन्यजीव अनुसंधान संगठन ‘ और ‘ बॉम्बे नेचुरल हिस्ट्री सोसाइटी ‘  साझा तौर पर करेंगे। बॉम्बे नेचुरल हिस्ट्री सोसाइटी (बीएनएचएस) ने इस केंद्र की डीपीआर तैयार की है। कैंपा योजना के तहत धन की व्यवस्था के लिए डीपीआर भेज दी गई है।

वर्ष 2013-14 की गणना के अनुसार 13 जिलों में करीब 900 गिद्ध पाए गए थे।वहीँ अगस्त में महाराजगंज वन प्रभाग के मधवलिया रेंज में 100 से अधिक गिद्ध देखे गए थे।साथ ही प्रदेश सरकार की ओर से स्थापित गो-सदन के पास भी यह झुंड दिखा गया ।
Tags
Show More

Related Articles

Close
Close