आजमगढ़

भारतीय स्टेट बैंक की मुख्य शाखा हुई अराजकता की शिकार

आजमगढ़:  भारतीय स्टेट बैंक आजमगढ़ की मुख्य शाखा इस समय पूरी तरह अराजकता की शिकार हो गई है मुख्य शाखा होने के कारण यहां ग्राहकों का भारी दबाव रहता है लेकिन पैसा निकालने और जमा करने के लिए अक्सर दो ही काउंटर कार्यरत रहते हैं जिससे कस्टमरों को दिन-दिन भर समय लग जाता है ।

स्थानीय चेकों की क्लीयरिंग जो तीसरे दिन हो जानी चाहिए उसमें 10 से 12 दिन का समय लग रहा है वहीं बाहरी चेकों की क्लीयरिंग तीन-तीन महीने लग रहा है, एटीएम कार्ड में किसी तरह की परेशानी होने पर कस्टमर को इस टेबिल से उस टेबिल दौड़ाया जाता है और अंत में कह दिया जाता है कि इसका हमसे कोई मतबल नहीं है ।

इस संबंध में जब कोई कस्टमर किसी कर्मचारी से बात करता है तो कहा जाता है कि जाकर शाखा प्रबंधक से बात करिये जबकि शाखा प्रबंधक का कमरा हमेशा बंद रहता है इसके चलते दूर से आये ग्राहक इधर से उधर भटकते रहते हैं ।

Tags
Show More

Related Articles

Close
Close