खेल

CWG में चयन न होने से मुझे झटका लगा था: सरदार सिंह

नई दिल्ली: हॉकी टीम के पूर्व कप्तान सरदार सिंह के लिए पिछला कुछ वक्त काफी उतार चढ़ाव वाला रहा। पिछले 6 महीनों में उन्हें कई बार टीम में शामिल और फिर बाहर किया गया। लेकिन सरदार सिंह को सबसे बड़ा झटका तब लगा था जब उन्हें गोल्ड कोस्ट कॉमनवेल्थ गेम्स की टीम में भी शामिल नहीं किया गया। बता दें कि गोल्ड कोस्ट में सेमीफाइनल में भारत का मुकाबला न्यू जीलैंड से हुआ था, जिसमें उसे 2-3 से हार का सामना करना पड़ा था। 1998 के बाद यह पहला मौका था जब पुरुष हॉकी टीम कॉमनवेल्थ गेम्स से बिना मेडल लिए लौटी थी।

उस बात का जिक्र करते हुए सरदार सिंह ने कहा, ‘पिछले साल एशिया कप जीतने के बाद तब के मुख्य कोच शोर्ड मारिन ने मुझसे कहा था कि वह ज्यादा से ज्यादा खिलाड़ियों को तैयार करना चाहते हैं, जिससे टीम का 42 प्लेयर्स का कोर ग्रुप तैयार हो सके। उसके बाद मुझे दो-तीन टूर के लिए ड्रॉप किया गया, उस वक्त मुझे ज्यादा फर्क नहीं पड़ा, क्योंकि मैंने सोचा युवाओं को मौका देने के लिए यह किया जा रहा है। लेकिन जब गोल्ड कोस्ट के लिए टीम की घोषणा हुई तो मैं स्टैंडबाय में भी नहीं था। इसने मुझे झटका दिया था।

सरदार सिंह ने यह भी कहा कि नए कोच हरेंद्र सिंह के आने से काफी कुछ बदला है। सरदार सिंह ने बताया कि हरेंद्र ने उन्हें जूनियर लेवल से खेलते देखा है और जब कोच बनने के बाद पहली बार उनसे मिले तो हरेंद्र ने उनसे सकारात्मक बातचीत की। साल 2018 के आगे के प्लान्स के बारे में बातचीत करते हुए सरदार सिंह ने कहा, ‘इस साल मैंने बहुत उतार-चढ़ाव देखे हैं। हम जानते हैं कि 2018 भारतीय हॉकी के लिए महत्वपूर्ण साल है। इसमें कॉमनवेल्थ गेम्स, एशियन गेम्स और वर्ल्ड कप जैसे टूर्नमेंट जो शामिल हैं। ये ऐसे इवेंट हैं जिनके लिए खिलाड़ी पूरे चार साल इंतजार करता है।

मैंने भी किया, क्योंकि ये ऐसे टूर्नमेंट नहीं हैं जिनका हिस्सा न होने पर हम यह कह सकें कि चलो कोई नहीं अगले साल सही।’ सरदार सिंह ने इंडोनेशिया में होनेवाले एशिया कप का हिस्सा हैं। यह टूर्नमेंट 18 अगस्त से 2 सितंबर तक होना है। फिलहाल वह उसी की तैयारियों में जुटे हुए हैं।

Tags
Show More

Related Articles

Close
Close