अन्य ख़बरेंदेश

बोर्ड एग्जाम के चलते इन शहरों में PUBG गेम पर लगाया गया बैन

राजकोट सिटी पुलिस ने ट्विटर पर ये घोषणा की है कि 9 मार्च से 30 अप्रैल तक शहर में PUBG मोबाइल पूरी तरह से प्रतिबंधित है

गुजरात सरकार ने जनवरी के अंत में सभी जिला प्रशासकों से राज्य भर के सभी स्कूल परिसरों में लोकप्रिय PUBG मोबाइल गेम को बैन करने के लिए कहा था. इस गेम को बैन करने की मुख्य वजह बताई गई इसका बच्चों पर नकारात्मक असर और इसकी बढ़ती लत. लोगों का मानना था की इस गेम की वजह से बच्चों में हिंसक प्रवृत्ति बढ़ रही है और इससे उनके सामान्य व्यवहार में भी फर्क पड़ रहा है.

अब राजकोट सिटी पुलिस ने ट्विटर पर ये घोषणा की है कि 9 मार्च से 30 अप्रैल तक शहर में PUBG मोबाइल पूरी तरह से प्रतिबंधित है. 10 वीं और 12 वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षाएं आयोजित की जाने के वजह से इस अवधि को शैक्षणिक वर्ष का बहुत महत्वपूर्ण हिस्सा माना जाता है. इस वजह से यह गेम इतने समय के लिए प्रतिबंधित किया जाएगा।

सार्वजनिक सुरक्षा के मद्देनजर राजकोट शहर पुलिस आयुक्तालय की ओर से कहा गया है कि यदि कोई इस आदेश का उल्लंघन करता हुआ पाया जाता है, तो राजकोट सिटी पुलिस एक्ट के अधिकार के तहत, आपराधिक प्रक्रिया अधिनियम, 1973 की धारा 144 (1974 का अधिनियम 1) और गुजरात पुलिस अधिनियम की धारा 37 (3) के अनुसार उस पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

यहां तक कि सूरत जिला प्रशासन ने भी इसी तरह की कार्रवाई की है और ऊपर दी गई जानकारी के अनुसार ही उस अवधि के लिए 9 मार्च से PUBG मोबाइल का पूर्ण प्रतिबंध लागू किया है. PUBG को लेकर पैरेंट्स ज्यादा परेशान हैं. इस वजह से भी इस गेम पर प्रतिबंध लगाया जा रहा है.

 

Tags
Show More

Related Articles

Close
Close