देशबड़ी खबरबिज़नेस

कौन हैं CJI  एस. ए. बोबडे ?

 

अयोध्या फैसले की संवैधानिक बेंच में पांच जजों में से एक शरद अरविंद बोबडे सुप्रीम कोर्ट के 47वें चीफ जस्टिस होंगे। 63 साल के जस्टिस बोबडे सुप्रीम कोर्ट में दूसरे सबसे वरिष्ठ जज हैं। दरअसल, चीफ जस्टिस रंजन गोगोई 17 अक्टूबर को रिटायर हो रहे हैं और जस्टिस बोबडे 18 नवंबर को बतौर सीजेआई शपथ लेंगे। जस्टिस बोबडे 23 अप्रैल 2021 तक सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस के पद पर रहेंगे। आइए आपको बताते कि आखिर कौन हैं जस्टिस एस.ए.बोबडे …

  • 24 अप्रैल 1956 को जन्मे जस्टिस बोबडे नागपुर में पले-बढ़े। एसएफएस कॉलेज से उन्होंने बीए किया और साल 1978 में नागपुर यूनिवर्सिटी से क़ानून की डिग्री हासिल की।
  • 13 सितंबर 1978 को उन्होंने बतौर वकील अपना नामांकन कराया और बॉम्बे हाई कोर्ट की नागपुर बेंच में प्रैक्टिस की। साल 1998 में उन्हें सीनियर एडवोकेट नामित किया गया।
  • 29 मार्च 2000 को बोबडे को बॉम्बे हाई कोर्ट में एडिशनल जज नियुक्त किया गया। 16 अक्टूबर 2012 में मध्य प्रदेश हाई कोर्ट में चीफ़ जस्टिस बनने के बाद अगले ही साल 2013 में उन्हें सुप्रीम कोर्ट में जस्टिस बनाया गया।
  • जस्टिस बोबडे का संबंध वकीलों के परिवार से रहा है। उनके दादा भी एक वकील थे।
  • जस्टिस बोबडे के पिता अरविंद बोबडे महाराष्ट्र में एडवोकेट जनरल रहे हैं। उनके बड़े भाई दिवंगत विनोद बोबडे भी सुप्रीम कोर्ट में सीनियर वकील थे। जस्टिस बोबडे की बेटी रुक्मणि दिल्ली में और बेटा श्रीनिवास मुंबई में वकालत करते हैं।
  • जस्टिस बोबडे आधार कार्ड, दिल्ली-एनसीआर में पटाखों पर बैन समेत कई अन्य ऐतिहासिक फैसलों का हिस्सा रहे हैं। इतना ही नहीं, जस्टिस बोबडे सीजेआई गोगोई के खिलाफ यौन उत्पीड़न के आरोपों की जांच के लिए बनी समिति में शामिल थे।
  • जस्टिस बोबडे को फोटोग्राफी का शौक है। वह अपने बिजी शिड्यूल में से कुछ वक्त अपनी पसंदीदा हॉबी फोटोग्राफी के लिए भी निकाल लेते हैं।

 

Show More

Related Articles

Close
Close