Alive24News.com

Uttar Pradesh Lucknow's Latest News in Hindi (हिंदी)

इसलिए मनाया जाता है “राष्ट्रीय प्रेस दिवस”


उर्वशी कसेरा       

आज देश राष्ट्रीय प्रेस दिवस मना रहा है। यह भारत में मनाए जाने वाले राष्ट्रीय दिवसों में से एक है। यह दिन एक स्वतंत्र और जिम्मेदार प्रेस की मौजूदगी का प्रतीक है। राष्ट्रीय प्रेस दिवस (National Press Day) प्रत्येक वर्ष ’16 नवंबर’ को मनाया जाता है। राष्ट्रीय प्रेस दिवस भारत को लोकतांत्रिक देश बनाने में उनके योगदान की सराहना करता है। भारत में 16 नवंबर को राष्ट्रीय प्रेस दिवस मनाया जाता है क्योंकि भारतीय प्रेस परिषद ने इस दिन स्वतंत्र रूप में प्रेस के कार्यों की अनदेखी करते हुए एक जिम्मेदार निकाय के रूप में कार्य करना शुरू किया था ।

विश्‍व में अब लगभग 50 देशों में प्रेस परिषद या मीडिया परिषद है। भारत में प्रेस को ‘वॉचडॉग’ एवं प्रेस परिषद इंडिया को ‘मोरल वॉचडॉग’ कहा गया है। दुनिया भर में कई प्रेस/मीडिया परिषद हैं लेकिन प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया प्रेस की स्वतंत्रता की रक्षा करने के अपने कर्तव्य में एक अद्वितीय इकाई है, जहां प्रेस एक स्वतंत्र प्रकार का है जो देश के चौथे स्तंभ के रूप में अपनी जिम्मेदारियों का एहसास करता है।

राष्ट्रीय प्रेस दिवस का इतिहास

प्रथम प्रेस आयोग ने भारत में प्रेस की स्वतंत्रता की रक्षा एंव पत्रकारिता में उच्च आदर्श कायम करने के उद्देश्य से एक प्रेस परिषद की कल्पना की थी। परिणामस्वरूप चार जुलाई 1966 को भारत में प्रेस परिषद की स्थापना की गई, जिसने 16 नंवबर 1966 से अपना विधिवत कार्य शुरू किया। तब से लेकर आज तक प्रतिवर्ष 16 नवंबर को राष्ट्रीय प्रेस दिवस के रूप में मनाया जाता है।

प्रेस काउंसिल भारतीय प्रेस द्वारा भारतीय रिपोर्ट्स की गुणवत्ता पर जाँच करने के लिए बनाई गई थी।ये यह भी सुनिश्चित करता है कि पत्रकारिता निष्पक्षता “किसी भी बाहरी कारकों के प्रभाव या खतरों के कारण समझौता नहीं किया गया है” हो रही है की नहीं। आज ही के दिन प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया (पीसीआई) ने देश के चौथे स्तंभ के लिए नैतिक प्रहरी की भूमिका निभाई।