असम के लोगों से पीएम की अपील- चिंतित न हो, नहीं होगा आपके अधिकारों का हनन


 

नागरिकता संशोधन विधेयक, 2019 (कैब) को संसद के दोनों सदनों से मंजूरी मिल गई है। वहीं पूर्वोत्तर के राज्यों खासतौर से असम में विधेयक का विरोध हो रहा है। कई जगहों पर प्रदर्शनकारियों ने आगजनी की। जिसके बाद कुछ स्थानों पर कर्फ्यू लगाया गया है। राज्य में जारी अशांति को देखते हुए कई एयरलाइंस ने अपनी सेवाएं रद्द कर दी हैं। इसी बीच प्रधानमंत्री ने असम के लोगों से शांति की अपील की। उन्होंने उन्हें आश्वासन दिया कि उनका हक नहीं छीना जाएगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘मैं असम के अपने भाईयों और बहनों को यह आश्वासन देना चाहता हूं कि नागरिकता संशोधन विधेयक, 2019 के पास होने पर उन्हें चिंतित होने की जरूरत नहीं है। मैं उन्हें आश्वासन देना चाहता हूं कि कोई उनके अधिकार, विशिष्ट पहचान और सुंदर संस्कृति लेकर नहीं जाएगा। यह लगातार फलता-फूलता और विकसित होता रहेगा। केंद्र सरकार और मैं संविधान के खंड 6 की भावना के अनुसार, असमिया लोगों के राजनीतिक, भाषाई, सांस्कृतिक और भूमि अधिकारों को संवैधानिक रूप से संरक्षित करने के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध हैं।’