देशबड़ी खबरब्रेकिंगराजनीति

महाराष्ट्र विधानसभा इलेक्शन 2019: शिवसेना का आया एक बड़ा बयान

महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री पद के बंटवारे को लेकर शिवसेना और बीजेपी के बीच खींचातानी जारी है। सूत्रों के मुताबिक, अगर मामला जल्दी नहीं सुलझता है तो जल्द ही शिवसेना बीजेपी से गठबंधन तोड़ देगी।शिवसेना की महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर यह बड़ा दांव होगा।

महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री पद के बंटवारे को लेकर शिवसेना और बीजेपी के बीच खींचातानी जारी है। सूत्रों के मुताबिक, अगर मामला जल्दी नहीं सुलझता है तो जल्द ही शिवसेना बीजेपी से गठबंधन तोड़ देगी।शिवसेना की महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर यह बड़ा दांव होगा।

इस बीच सेना भवन पर उद्धव ठाकरे की मौजूदगी में पार्टी नेताओं की अहम बैठक हो रही है।इस बैठक से पहले शिवसेना नेता गुलाबराव पाटिल ने कहा कि सीएम शिवसेना से होना चाहिए। हम उद्धव ठाकरे के आदेशों की इंतजार कर रहे हैं। जब तक हमें बताया जाएगा, तब तक हम सब होटल में रहेंगे। शिवसेना ने अपने विधायकों को होटल में इसलिए शिफ्ट कर दिया क्योंकि पार्टी को बीजेपी की ओर से विधायकों को खरीदने का डर सता रहा है।

इधर, शिवसेना ने दोटूक कह दिया कि बीजेपी राज्य में राष्ट्रपति शासन की कोशिश में हैं।थोड़ी देर पहले प्रेस कॉन्फ्रेंस में शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि उनकी लड़ाई जारी रहेगी। हालांकि सभी शिवसेना विधायक अभी रंगशारदा होटल में ही है। इसी बीच शिवसेना विधायक आदित्य ठाकरे अपनी कार खुद चलाकर विधायकों से मिलने होटल पहुंचे हैं। वहीं फिर से पार्टी के वरिष्ठ नेता रामदास कदम और एकनाथ शिंदे भी होटल पहुंचे,जो की कुछ देर पहले वहां से वापस आ चुक थे। शिवसेना ने अपने विधायकों को होटल में शिफ्ट कर दिया है।पार्टी को बीजेपी की ओर से विधायकों को खरीदने का डर सता है।

इस खींचातानी के बीच केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि ‘जरूरत पड़ी तो मैं मध्यस्थता के लिए तैयार हूं’।उन्होंने कहा कि शिवसेना के साथ हमने कभी भी मुख्यमंत्री पद के बंटवारे को लेकर बातचीत नहीं की।सीएम पद तो बीजेपी के पास ही रहेगा।

Tags
Show More

Related Articles

Close
Close