JNU हिंसा के बाद कल से शुरू होंगी क्लास, नोटिस जारी

जेएनयू


जेएनयू (जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय) में 5 जनवरी की शाम को कुछ नकाबपोश बदमाशों ने हाथों में डंडे, रॉड लेकर घुसे और छात्र-छात्राओं, शिक्षकों पर ताबड़तोड़ हमला कर दिया। जेएनयू में हुई इस हिंसक घटना के बाद कक्षाएं रोक दी गई थीं। वहीं, अब 7 दिन बाद 13 जनवरी यानी सोमवार से विश्वविद्यालय प्रशासन ने कक्षाएं शुरू करने का फैसला लिया है।

विश्वविद्यालय प्रशासन ने केंद्रीय मानव संसाधन मंत्रालय को इसकी आधिकारिक जानकारी दी है। प्रशासन ने शनिवार को इस बाबत छात्रों के लिए एक नोटिस जारी किया, जिसमें सभी छात्रों को सोमवार से अपनी कक्षाओं में लौटने को कहा गया है। नोटिस में दिल्ली से बाहर गए छात्रों को भी लौट आने को कहा गया है।

छात्रसंघ ने छात्रों से की शीतकालीन सत्र के बहिष्कार की अपील

वहीं, जेएनयू छात्र संघ ने इसके जवाब में रजिस्ट्रेशन प्रोसेस का पूरी तरह बहिष्कार करने का फैसला लिया है। छात्रसंघ अध्यक्ष आईषी घोष और अन्य सभी प्रतिनिधियों ने छात्रों से शीतकालीन सत्र के बहिष्कार करने की अपील की है। छात्र संघ ने छात्रों से एकजुट रहने की अपील की है। उसका कहना है कि लाईफ साइंस जैसे विषय पर शोध कर रहे 50-60 छात्रों ने ही अभी तक शीतकालीन सत्र के लिए रजिस्ट्रेशन कराया है।

वहीं, एक ओर छात्रों का कहना है कि कुलपति एम जगदीश कुमार बढ़ी हुई फीस वापस लें। छात्रों के विरोध को देखते हुए जेएनयू प्रशासन ने शनिवार को एक नोटिस जारी कर दिया। नोटिस की कॉपी मानव संसाधन मंत्रालय को भी भेजी गई है। सह रजिस्ट्रार मनोज कुमार द्वारा जारी इस नोटिस में कहा गया है “सभी छात्रों को सूचित किया जाता है कि विश्वविद्यालय में कक्षाएं व सभी स्कूल्स एवं विशेष केंद्रों में शैक्षणिक गतिविधियां’ सोमवार से प्रारंभ की जा रही हैं।

प्रशासन ने नोटिस के माध्यम से बताया कि शीतकालीन सत्र के लिए रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया सही दिशा में चल रही है। प्रशासन ने कहा है कि जो छात्र हिंसा के डर अथवा किसी अन्य कारण से शहर से बाहर चले गए हैं वह सभी समय रहते वापस लौंट आएं।