देशबड़ी खबरराजनीति

चर्चाओं में ही सिमटा गठबंधन, बसपा 40 सीटों पर बिगाड़ेगी कांग्रेस का समीकरण।

विधानसभा चुनावों से पहले प्रदेश में कांग्रेस व बसपा के गठबंधन की जोर पकड़ रही चर्चाओं पर विराम लग गया है. बसपा सुप्रीमो मायावती के राजस्थान में कांग्रेस से गठबंधन नहीं करने के बयान से कांग्रेस भले की चिंतित हो, लेकिन कई पार्टी के नेताओं ने राहत की सांस ली है. गठबंधन नहीं होने से बसपा प्रदेश में करीब 40 सीटों पर कांग्रेस के समीकरण बिगाड़ेगी.

राजस्थान में कांग्रेस के बसपा से गठबंधन होने की चर्चाओं से कई नेता चिंतित थे. गठबंधन के मुद्दे पर बसपा सुप्रीमो मायावती के ताजा बयान से उनके चेहरे खिल गए हैं. प्रदेश में कांग्रेस का बसपा से गठबंधन होने की स्थिति में कम से कम 10 सीटों पर कांग्रेस नेताओं के टिकट कटते. प्रदेश के कांग्रेस नेता नहीं चाहते थे बसपा से गठबंधन हो. लेकिन बसपा से गठबंधन की बात सिरे चढ़ने से पहले ही खारिज होने से प्रदेश की करीब 40 सीटों पर अब बसपा कांग्रेस के समीकरण बिगाड़ेगी. अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित 34 आरक्षित सीटों पर दलित वोटों के बंटवारे का नुकसान कांग्रेस को उठाना पड़ेगा.

गठबंधन में दरार? मध्य प्रदेश और राजस्थान में बीएसपी को साधने में नाकाम रही कांग्रेस

पीसीसी चीफ ने बताया मायावती का निजी फैसला
वहीं मायावती के बयान पर प्रदेश कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष सचिन पायलट का कहना है कि गठबंधन को लेकर लिया गया फैसला मायावती का निजी फैसला है. कांग्रेस तो 10 साल तक सभी दलों को साथ लेकर चली है. उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों प्रदेश कांग्रेस के पदाधिकारियों की पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के साथ दिल्ली में अहम बैठक हुई थी. उस बैठक में नेताओं ने राजस्थान में समान विचारधारा वाले दलों से गठबंधन के संकेत दिए थे. इससे प्रदेश में कांग्रेस के बसपा से गठबंधन की चर्चाएं जोर पकड़ गई थी.

Show More

Related Articles

Close
Close