देश

आधार प्राधिकरण लोगों की चुनौतियों को निपटाने जुटा

हाल ही में ट्राई के अध्यक्ष आरएस शर्मा ने ट्विटर पर अपना आधार नंबर लिखकर उसे हैक करने की चुनौती दी थी। इस चुनौती के कुछ घंटे बाद ही एक हैकर ने उनकी कुछ निजी जानकारियां ट्वीट पर लीक कर दी। जिसके बाद लोगों को लगने लगा कि आधार नंबर की वजह से उनकी जानकारी भी खतरे में हैं। इसको देखते हुए यूआईडीएआई लोगों के मन का डर खत्म करने की कोशिश में जुटा हुआ है। यानि आधार प्राधिकरण एक चुनौती को निपटाने में जुट गया है।

इस घटना को यूआईडीएआई (आधार प्राधिकरण) ने गंभीरता से लिया था। अब यूआईडीएआई एक योजना तैयार करने की कोशिश कर रहा है, जिसमें लोगों को यह समझाया जा सके कि अपने आधार नंबर को कहां शेयर किया जाए और कहां नहीं। दरअसल, भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (यूआईडीएआई) आधार नंबर को पैन कार्ड नंबर, बैंक अकाउंट नंबर और क्रेडिट कार्ड नंबर के समान बनाना चाहता है। वहा चाहता है कि उपभोक्ता इसे सार्वजनिक मंचों में रखने से बचें।

इस योजना के बारे में बताते हुए प्राधिकरण के सीईओ अजय भूषण पांडेय ने मीडिया से कहा कि लोगों को यह बताना जरूरी है कि वह आधार का कहीं भी बिना किसी डर के इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके लिए अक्सर पूछे जाने वाले सवाल (एफएक्यू) जारी किया जाना जरूरी हो गया है। आधिकारिक जानकारी के अनुसार एफएक्यू में करीब एक दर्जन सवालों के जवाब दिए जाएंगे। यूआईडीएआई लोगों के मन का डर खत्म करने की कोशिश में जुटा हुआ है।

Tags
Show More

Related Articles

Close
Close