Alive24News.com

Uttar Pradesh Lucknow's Latest News in Hindi (हिंदी)

गर्दन दर्द से परेशान हैं तो अपनाएं यह आसन


आजकल की लाइफस्टाइल इस तरह से हो गई है को ज्यादातर काम कम्प्यूटर पर करने पड़ते हैं। जिसकी वजह से गर्दन में दर्द होना स्वाभाविक है। ऐसे में किसी तरह की दवा खाने से अच्छा है कि रोज योग का अभ्यास किया जाए। तो चलिए जानें कि गर्दन के दर्द के लिए कौन सा योग फायदेमंद है।

शलभासन करने की विधि : शलभासन को करने के लिये जमीन पर चटाई बिछाकर उस पर पेट के बल लेट जाएं। फिर दोनों पैरों को सीधा रखें और हाथों को कमर के पास व सीधा रखें। हथेली ऊपर की ओर रखें। अब गहरी सांस लेते हुए अपने दांये पैर को ऊपर दीवार की ओर उठाएं। इस दौरान घुटनों को मोड़े नहीं और सांस लेते रहें। अब दांये पैर को नीचे रखें। इसी प्रक्रिया को अपने बांये पैर के साथ दोहराएं। इस प्रकिया को करते समय हाथों को स्थिर रखें। अब सांस लेते हुए अपने दोनों पैरों को ऊपर की ओर उठाएं। घुटनों को मोड़े नहीं। हाथों को कमर के बराबर में सीधा रखें और सांस लेते रहें। अब सिर को ऊपर की उठाएं। पैरों को नीचे ले आएं और आराम की अवस्था में आ जाएं। इस आसन का अभ्यास दो से चार मिनट के लिये करें।

पाचन क्रिया को भी सुधारता है : शलभासन करने से पाचन क्रिया भी दुरुस्त होती है और पेट के आसपास जमा फैट कम होने लगता है। इसके साथ ही यह शरीर के पोस्चर को भी सही करता है।

शलभासन करने के लाभ : शलभासन को नियमित रूप से करने से शरीर का लचीलापन बढ़ता है। जिससे आपको हर स्थिति में काम करने की क्षमता बढ़ती है। इसके साथ ही कमर की मांसपेशियों को मजबूती मिलती है और कमर के दर्द से आराम मिलता है। योग की यह क्रिया गर्दन, कंधा और हाथों की नसों को आराम दिलाता है