मनोरंजन

अतुल्य भारत प्रदर्शनी में देश भर के कलाकार और पकवान विशेषज्ञ होंगे शामिल

नई दिल्ली। देश की राजधानी में इस सप्ताह आयोजित होने जा रही पांच दिन की ‘‘अतुल्य भारत’’ प्रदर्षनी में देश भर के लोक कलाकार, हस्त कलाकार और पकवान विषेशज्ञ अपनी कला का जौहर दिखाएंगे। आठ अगस्त से षुरू होने जा रही इस प्रदर्षनी का आयोजन भारत सरकार के संस्कृति मंत्रालय के तहत कार्यरत स्वायत्त निकाय – नार्थ सेंट्रल जोन कल्चरल सेंटर (एनसीजेडसीसी) ंकी ओर से किया जा रहा है। ं इस प्रदर्षनी में कला, पाक कला, हस्तकला, लोक कला, जनजातीय कला और षास्त्रीय कला के क्षेत्र में कलाकार अपने हुनर दिखाएंगे। यह प्रदर्षनी 12 अगस्त तक चलेगी।

 

इस साल यह प्रदर्षनी दो अलग-अलग स्थानों पर आयोजित होगी। मुख्य सांस्कृतिक आयोजन कनाट प्लेट में होंगे जबकि जनपथ स्थित हैंडलूम हाट में क्राफ्ट बाजार के अलावा व्यंजन और चित्र प्रदर्षनी आयोजित होगी। उत्तराखंड (कुमाऊं), उड़ीसा, छत्तीसगढ़, कश्मीर, तेलंगाना और कई राज्यों के लोक नृत्य इस वर्ष के आयोजन के मुख्य आकर्षण होंगे।

 

एनसीजेडसीसी के निदेषक इंद्रजीत ग्रोवर ने इस आयोजन के बारे में कहा, “हमें पांच दिन के इस आयोजन ‘‘अतुल्य भारत’’ के शुरू होने की घोषणा करते हुए खुशी हो रही हैं। इस सांस्कृतिक उत्सव के दौरान आगंतुकों को भारत की जीवंत संस्कृति को निकटता से महसूस करने और अनुभव करने का अवसर मिलेगा। इस आयोजन में देश के दूरदराज के हिस्सों से 200 कलाकार आने वाले हैं जो राष्ट्रीय अखंडता का प्रदर्षन करेंगे और यह निष्चित तौर पर अतुल्य भारत की भावना प्रदर्षित करेंगे।

 

नार्थ सेंट्रल जोन कल्चरल सेंटर (एनसीजेडसीसी) भारत सरकार के मानव संसाधन विकास मंत्रालय की पहल पर स्थापित सात क्षेत्रीय सांस्कृतिक केन्द्रों में से एक है। मानस संसाधन विकास मंत्रालय ने 1985 में पहली बार पटियाला (पंजाब) में उत्तरी क्षेत्र के लिए जेडसीसी की स्थापना की घोशणा की थी और इसके बाद षांतिनिकेतन (पष्चिम बंगल) में पूर्वी क्षेत्र के लिए एक अन्य जेसीसी की स्थापना की गई। इसी सिलसिले में 1986 में एनसीजेडसीसी की स्थापना हुई जिसका पंजीकृत कार्यालय इलाहाबाद में है।

Tags
Show More

Related Articles

Close
Close