क्राइमदेशबड़ी खबर

राम रहीम समेत चार को पत्रकार हत्याकांड में हुई उम्रकैद की सज़ा

सीबीआई की विशेष अदालत ने हिसार के पत्रकार रामचंद्र छत्रपति की हत्या के मामले में डेरा प्रमुख राम रहीम और सभी चार दोषियों को आज 17 जनवरी को सजा सुना दी है

सीबीआई की विशेष अदालत ने हिसार के पत्रकार रामचंद्र छत्रपति की हत्या के मामले में डेरा प्रमुख राम रहीम और सभी चार दोषियों को आज 17 जनवरी को सजा सुना दी है. कोर्ट द्वारा 11 जनवरी को चारो दोषी ठहराए जा चुके है. राम रहीम तो फिलहाल अपनी पिछली सजा ही भुगत रहे हैं. वे दो साध्वियों से दुष्कर्म करने के मामले में रोहतक की सुन्दरिया जेल में बंद हैं. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक विशेष अदालत वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये अपना फैसला सुनाएगी।

जानकारी के मुताबिक, यह बताया जा रहा है कि राम रहीम और किशन लाल को पत्रकार हत्याकांड में आईपीसी की धारा 120बी और 302 के तहत बीक किया गया है. वहीं बाकी दोनों आरोपियों कुलदीप और निर्मल को 120बी, 302 और आर्म्स एक्ट का दोषी पाया गया है. धारा 302 में उम्रकैद या फिर फाँसी हो सकती है. पत्रकार रामचंद्र छत्रपति के बेटे अंशुल ने पहले ही राम रहीम को फाँसी देने की मांग की थी.

पत्रकार रामचंद्र ने साध्वी यौन शोषण के मामले में लिखे गए पत्रों के आधार पर अपने अख़बार में खबरें प्रकाशित की थी. उन पर चुप रहने का दबाव बनाया गया पर जब वे नहीं माने तो 24 अक्टूबर 2002 को गोली मार दी गई. दिल्ली के अपोलो अस्पताल में 21 नवंबर 2002 को उनकी मौत हो गई थी.

24 अक्टूबर 2002 को बाइक पर आए सख्स कुलदीप ने रामचंद्र को गोली मारी थी. उसके साथ बाइक पर निर्मल भी था. जिस रिवॉल्वर से पत्रकार पर गोली चलाई गई थी उसका लाइसेंस डेरा सच्चा सौदा के मैनेजर किशन लाल के नाम पर था. 25 अगस्त 2017 को जब राम रहीम को साध्वी यौन शोषण के मामले में पंचकूला की स्पेशल सीबीआई कोर्ट लाया गया था तब डेरा के समर्थको ने दंगा कर दिया था. इसी बात को ध्यान में रखते हुए हरियाणा सरकार ने सीबीआई कोर्ट में याचिका दायर कर राम रहीम की पेशी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये करने की मांग की थी. मामले की गंभीरता को देखते हुए कोर्ट ने इसकी मंजूरी दे दी है.

फैसले को देखते हुए फ़िलहाल रोहतक, सिरसा और पंचकूला में सुरक्षा बढ़ा दी गई है. रोहतक में इंडियन रिज़र्व बटालियन की टीम पेट्रोलिंग करेगी और ड्रोन से भी नज़र रखी जाएगी। पंचकूला में रिज़र्व आर्म्ड फ़ोर्स भी तैनात कर दी गई है और हाई अलर्ट जारी करके धरा 144 लागू कर दी गई है.

आखिरकार 17 साल बाद पंचकूला के स्पेशल सीबीआई कोर्ट ने राम रहीम, किशन लाल, कुलदीप और निर्मल को उम्रकैद की सजा सुना दी है.

Tags
Show More

Related Articles

Close
Close