क्राइमधर्म अध्यात्म

गणतंत्र दिवस पर वन्दे मातरम न कहने पर, की गई मुस्लिम शिक्षक की पिटाई

शिक्षक की स्थानीय लोगों ने इसलिए पिटाई कर दी क्योंकि 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के अवसर पर उसने ध्वजारोहण समारोह के बाद वन्दे मातरम कहने से इनकार कर दिया था

बिहार: बिहार के कटिहार जिले में एक मुस्लिम शिक्षक की पिटाई का मामला सामने आया है. जानकारी के मुताबिक, शिक्षक की  स्थानीय लोगों ने इसलिए पिटाई कर दी क्योंकि 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के अवसर पर उसने ध्वजारोहण समारोह के बाद वन्दे मातरम कहने से इनकार कर दिया था.

मिली हुई जानकारी के अनुसार, पीड़ित शिक्षक का नाम अफजल हुसैन है और वह प्राथमिक स्कूल में शिक्षक है. हुसैन का कहना है कि उसने वन्दे मातरम इसलिए नहीं कहा क्योंकि यह उसकी धार्मिक मान्यता के खिलाफ है। “हम अल्लाह में विश्वास करते हैं और वन्दे मातरम हमारी मान्यता के खिलाफ है। इस शब्द का अर्थ है भारत माता की वंदना (हिंदी में स्तुति), जिसे हम नहीं मानते।”

हुसैन का कहना है, संविधान में ये कहीं नहीं लिखा है कि वन्दे मातरम कहना जरूरी है। मेरी जान जा सकती थी. जिला शिक्षा अधिकारी का कहना है, अगर ऐसी कोई जानकारी मिलती तो जांच की जाती। लेकिन अभी तक हमें ऐसी कोई शिकायत नहीं मिली है।

आपको बताते चलें कि भारत के राष्ट्रीय गीत वन्दे मातरम को लेकर पहले भी कई बार विवाद खड़ा हो चुका है. इस मामले पर बिहार के शिक्षा मंत्री का कहना है कि राष्ट्रीय गीत का अपमान करना बिल्कुल भी क्षमा योग्य नहीं है.

Tags
Show More

Related Articles

Close
Close