क्राइमदेशबड़ी खबरब्रेकिंगविदेश

विमान हमले में 176 मरे, ईरान बोला- गलती हो गई

राष्‍ट्रपति हसन रूहानी बोले- जिम्मेदारों को नहीं बख्शेंगे

ईरान ने आखिरकार तेहरान में दुर्घटनागस्त हुए यूक्रेन के यात्री विमान बोइंग 737 को गलती से मार गिराए जाने की बात कबूल कर ली है। हमले के समय विमान में 176 लोग सवार थे, जिनकी मौत हो गई थी। सेना ने बयान जारी कर इसे मानवीय भूल करार दिया। यह घटना ऐसे समय पर हुई थी जब ईरान ने इराक में मौजूद अमेरिकी सैन्य ठिकानों पर मिसाइल हमला किया था। वहीं, रूसी संसद की विदेश मामलों की समिति के अध्यक्ष ने कहा कि तेहरान को यूक्रेन विमान दुर्घटना से सबक सीखना चाहिए।

विमान ने तेहरान के इमाम खुमैनी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से यूक्रेन की राजधानी कीव के बोर्यस्पिल अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे लिए उड़ान भरी थी। ईरानी अधिकारियों ने पहले दावा किया था कि इस दुर्घटना का कारण तकनीकी खामी थी। नागरिक उड्डयन मंत्रालय के प्रवक्ता रजा जाफरजादेह ने बताया था कि यह विमान तेहरान के दक्षिण पश्चिमी इलाके में दुर्घटना का शिकार हुआ। जांचदल और बचाव कर्मी दुर्घटनास्थल पर पहुंचें तब उन्हें कोई भी जिंदा नहीं मिला।

राष्‍ट्रपति हसन रूहानी ने मानी गलती

सेना के बयान को लेकर ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने कहा, ‘सशस्त्र बलों की आंतरिक जांच से निष्कर्ष निकला है कि मानवीय त्रुटि के कारण गलती से यूक्रेनी विमान को मिसाइल ने निशाना बनाया। जिसके कारण विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया और 176 लोगों की जान चली गई। इस त्रासदी और अक्षम्य गलती की जांच जारी रहेगी और जिम्मेदार लोगों के खिलाफ मुकदमा चलाया जाएगा।’

ईरान कई दिनों तक अपनी मिसाइल से विमान गिराए जाने की बात नकारता रहा है लेकिन अमेरिका और कनाडा ने खुफिया जानकारी के हवाले से कहा था कि ईरान ने विमान को गिराया है। विमान ने यू्क्रेन की राजधानी कीव के लिए उड़ान भरी थी, जिसमें 167 यात्री और विभिन्न देशों के नौ क्रू सदस्य शामिल थे। अधिकारियों के मुताबिक, विमान में 82 ईरानी, लगभग 63 कनाडियन और 11 यूक्रेनियन सवार थे।

Tags
Show More

Related Articles

Close
Close