क्राइम

300 भारतीय बच्चों को अमेरिकी ग्राहकों को बेचा, हर बच्चे के कीमत 45 लाख रुपए

नई दिल्ली: मुंबई पुलिस ने एक अतंरराष्ट्रीय तस्करों के गिरोह का पर्दाफाश किया है। पुलिस के मुताबिक आरोपियों ने 300 से ज्यादा बच्चों को अमेरिका में बेच दिया है। राजूभाई गमलेवाला उर्फ राजूभाई ने इस रैकेट की शुरुआत साल 2007 में की थी। ये लोग अमेरिका आधारित क्लाइंट को बच्चे बेचते थे। एक बच्चे को लगभग 45 लाख रुपए में अमेरिकी नागरिकों को बेचा जाता था। बेचे गए बच्चों के बारे में अभी जानकारी नहीं है। इस समूह के कुछ लोगों को मार्च में गिरफ्तार किया गया था। पुलिस ने बताया कि जिन बच्चों को अमेरिकियों को बेचा गया उनकी उम्र 11 से 16 साल के बीच है। ये सभी बच्चे गरीब परिवार से आते हैं। पुलिस ने बताया कि इस बच्चों के परिजन इनकी देखभाल करने में सक्षम नहीं थे, इस कारण उन्होंने बच्चों को बेच दिया। पुलिस के मुताबिक एक अमेरिकी क्लाइंट ने बच्चे डिमांड की थी।

जिसके बाद राजूभाई ने तस्करों को गुजरात के किसी परिवार के बच्चा खोजने की जिम्मेदारी दी थी। तस्कर ऐसे लोगों की भी तलाश में रहते थे जो अपने बच्चों के पासपोर्ट को किराए पर देने के लिए तैयार हो जाएं। जब कोई बच्चा उन्हें मिल जाता है, तो वह उस बच्चे का मेकअप करते हैं, जिससे बच्चे का चेहरा पासपोर्ट पर दी गई फोटो के तरह ही नजर आए। इसके बाद बच्चों को एक व्यक्ति के साथ अमेरिका भेज दिया जाता है और पासपोर्ट को उसके ओरिजनल होल्डर को दे दिया जाता है।

Tags
Show More

Related Articles

Close
Close